Uncategorized

हाय रे लत!

हाय रे लत!

आज घड़ी,घर छोड़ आया हूं,

ऐसा लग रहा,

शरीर का कोई हिस्सा छोड़ आया हूँ,

तुम पूछती हो ना,

तुम मेरे लिए क्या हो,

कुछ ऐसा ही महसूस होता है,

जब तुम नही होती,

तो क्या अब मैं तुम्हे लत कहूँ…

क्या कहूँ ?

Photo by ritonn.photo on Pexels.com
Standard