भटकाव…

भटकना लिखा है ये तो पता था, कब तक भटकना है, ये तो बता दो…. नगर नगर – गली गली, में ढूंढा है तुमको, कहा पर मिलोगे, ये तो बता दो।। 

Continue reading

Rate this: