Uncategorized

हाँ मैंने देखा है…

हाँ रहता है मुझमें कही वो,

मिलता भी है मुझसे रोज,

सिरहाने पड़ी किताबों के पन्नों में,

कभी दीवारों में दिखता है ,

उसका चेहरा,

कभी मेरी आँखों में

खुद ब खुद उभर आता है वो,

जब मैं एकांत में ,

सुन रहा होता हु,

रफी और मुकेश को,

कौन कहता है,

परमेश्वर को किसी ने नहीं देखा,

हाँ मैंने देखा है,

महसूस किया है,

इधर- उधर ,

अपने आस पास कही ….

Standard
Almighty

खुद ही खो गया हूँ..

मंदिर ढूंढा,

मस्जिद ढूंढा,

मिला कही ना तू..

हर हर महादेव

भी बोला,

बोला अल्लाह हूं..

कोई बोले तुझको ढूंढू,

कोई बोले खुदको,

तुझको खुदको ढूंढते-ढूंढते,

खुद ही खो गया हूँ…

अल्लाह हूं…

Standard
Almighty

सत्यम शिवम सुन्दरम…

शिव …..

आदि
अनादि
जन्मा
अजन्मा
सृष्टिकर्तासंहारकर्तासौम्य
रुद्र
परा
अपरा
योगी
आदियोगी
दृश्य
अदृश्य
औघड़
अघोरी
शून्य…
कौन ?
कहा ?
मैं उसमे हूँ
या वो मुझमें,
वो है भी नही,
सब उसमे है,
शिव शब्द तर्क से बाहर है
शिव स्वयं हमारे अंदर है..
हर हर महादेव
का मतलब,
हर कोई ही महादेव है…

-भृगु

Standard