Thought of the moment – 6

सबकुछ नही बोला जा सकता,ना ही लिखा जा सकता है… वही जो आप बोल और लिख नही पाते वही खोज है…प्रेम,ईश्वर,आत्मा,लक्ष्य जो कहना कह लो

Continue reading

Rate this:

पर्ची..

सुनों!आज ये पर्ची मिली ,किताब के पन्नों के बीच पड़ी हुई थी,कोई चार पांच साल पुरानी होगी,जब से तुम गयी हो,पर्चियां बनाना बंद कर दिया

Continue reading

Rate this:

प्रेम कहानी / Love Story

यार प्लान तो था ,

की गंगा के किनारे ,

मिलूंगा तुम्हे,

वही से कहानी ,

शुरू होनी थी,

घाट घुमाता,

चाट खिलाता,

ओ पार बैठते,

कविता सुनाता…

फिर प्यार मोहब्बत

वगैरा-वगैरा…

Continue reading

Rate this:

1 2 3 4 5 6