जिंदगी / Life

#जिंदगी तेरे कितने किस्सें, तेरी कितनी कहानी, तेरे कितने रूप, तेरी कितनी निशानी… #जिन्दगी कण कण में तू है, पल पल में तू है, तू

Continue reading

Rate this:

अर्थ…

ये जो मैं लिखता हूं, कही कविता तो नही, कैसे जुड़ जाती है , पंक्तियाँ, आगे पीछे वाली पंक्ति से… क्या जरूरी है , हर

Continue reading

Rate this:

बिना किसी लिंगभेद किसी पूर्वाग्रह, बेझिझक लिपट जाते है, गले मिलना सीखना तो किसी बच्चे से सीखना….

Continue reading

Rate this:

जीवन हूँ मैं…

खूबसूरत से खूबसूरत हूँ, बदसूरत से बदसूरत, आनंद हूँ,परमानंद भी, विषाद हूँ,संताप हूँ, तृष्णा हूँ, कुंठा भी, हर्ष हूँ, उल्लास हूँ, वेदना हूँ, शोक भी,

Continue reading

Rate this:

ब्रेकअप…

बहुत प्यार करती थी, वो मुझसे, वो रोज दिन में 2-3 बार मेरे मुह लगती, महफिले जमती, मैं भी उसे मुह लगाकर, बड़ा शान बघारता,

Continue reading

Rate this:

Happiness / सुख

तुम्हारा ये नींद में मुस्कुराना, एक अजब भाव पैदा करता है, जैसे कोई सिद्ध जोगी, साधना में हो.. सोये हुए तुम्हारे सिर पे हाथ फेरना…

Continue reading

Rate this:

सुनो! तुम चिंता ना करो, तुम्हारे लिए दुनिया से लड़े हैं, ई त ससुरा वायरस है… तुम्हारा…

Continue reading

Rate this:

गुरुदेव

कहाँ हो?कब तक इंतजार करू,कब तक भटकू,कभी इस डगर,कभी उस डगर,कौन बताये,किस डगर,मुझे मिलेगा वोजिसे ढूढता हु मैंइधर-उधर, इससे पहले की,ख़त्म हो जाय इसजीवन का

Continue reading

Rate this:

भटकाव…

भटकना लिखा है ये तो पता था, कब तक भटकना है, ये तो बता दो…. नगर नगर – गली गली, में ढूंढा है तुमको, कहा पर मिलोगे, ये तो बता दो।। 

Continue reading

Rate this:

साज़िश…

पूरे घर मे तुम्हारी साज़िश दिखती है… हर चीज मुझे , बस तुम्हारी याद दिलाती है…. डोरमैट से लेकर पर्दे तक, क़िताबो से लेकर वार्डरोब तक… जैसे सब बस तुम्हारी बात समझते है…  जबसे

Continue reading

Rate this:

चलना तो पड़ेगा..

तुम चलना भी नहीं चाहते और कहीं पहुंचना भी चाहते हो बस यही बात मंजिल को नाराज करती है तुम कहीं पहुंच नहीं रहे इसका मतलब तुम चल नहीं

Continue reading

Rate this:

सुनो सिकन्दर …!

सुनो ! सिकंदर, वापस आना मत भूलना, जितना-हारना, आगे बढ़ना, थक जाओ गर कभी, तुम हार जाओ गर कभी, लौट आना, यहाँ तुम्हारा सदैव, स्वागत है, ये घर है तुम्हारा… इसलिए वापस आना मत भूलना… 

Continue reading

Rate this:

मैं जानता हूं तुम्हे…

तुम कह सकती हो,तुम क्या समझोगे,पर मैं तुम्हे समझता हूं,मैं तब से तुम्हे,समझता हूं,जब मैं “मैं” बन रहा था…बल्कि मैंने,दुनिया को,तुमको,सबको,सिर्फ तुम्हारी,नजर से,देखा,जाना,समझा,उन नौ महीनों

Continue reading

Rate this:

उपहार / Women’s day

ये मेरी कविता मेरी सभी महिला मित्रो को सपर्पित ….💐💐💐 मैंने कहा –सोच रहा हु,इस विमेंस डे पे क्या दू तुम्हे,हार दू,उपहार दूबंगला दू या

Continue reading

Rate this: