निःशुल्क…

जो निःशुल्क है,वही सबसे ज्यादा कीमती है..नींद , शांति , आनन्द,हवा ,पानी , प्रकाशऔर सबसे ज्यादा हमारी सांसे.. 🍁

यादों का कारवां..

मैं इक चलता - फिरता कारवां हूँ,यादों का,और कुछ भी तो नही मेरे पास,यादों के सिवा,हर पड़ाव से आगे निकल जाता हूँ,हर बार खाली होते हैं मेरे हाथ,कुछ भी तो सँजो नही पाया,पूंजी के नाम पर,बस यादें..कुछ ठहाकों भरी,कुछ आहें..कुछ छूटी मन्ज़िले,कुछ बिसरी राहें,यादों का कारवां ही तो हूँ मैं..हमेशा रहूँगा तुम्हारी यादों में,कभी आंसू... Continue Reading →

मैं प्रेम में हूँ…

सिर्फ सभ्यता और व्यवस्था के बंधन के कारण तुम्हारे साथ हूँ, ऐसा नही है.... एक अनजाना सा लगाव है.. जो तुमसे दूर जाने ही नही देता.. तुम इसे प्रेम जैसा कुछ कहना चाहो, तो मैं तुम्हे सभ्यता के बंधनों से, मुक्त करता हूँ.. मैं प्रेम में हूँ...

माँ

कुछ रिश्तों पे,कुछ भी लिख लेता हूँ,तुम पर लिखनाजैसे पूरी एक दुनियां लिखनी हो,छोड़ देता हूँ,तुमको लिखता नही,जीता हूँ,तुम जीवन हो,माँ…

अपने…

अपने वे नही जो, रोने के बाद आते हैं,अपने वे होते हैं ,जो रोने नही देते । दोस्त वो नही जो गिरने के बाद आते हैं,दोस्त वो हैं जो गिरने नही देते…. ठीक वैसे ही जैसे - सपने वे नही जो सोने के बाद आते हैं,सपने वे होते है जो सोने नही देते..

Through of the moment – 7

आज जब वो इस दुनियां में नही हैं तो उसके लिए ग़ज़ल लिखे जा रहे, कविताएं, पोट्रेट, अच्छी - अच्छी बातें बोली जा रही।जब वो था तो किसी ने उस पर ग़ज़ल नही लिखी। तारीफें की जा रही हैं कि वाह भाई क्या कमाल का आदमी था, कितनी खूबियां थी। क्या तारीफें मरने की मोहताज... Continue Reading →

प्रेम/Love

प्रेम करना, और बोलना, जरूरी है क्या,जब लोगो ने #प्रेम को,बोलना शुरू किया, प्रेम फीका होता चला गया, वो क्या #प्रेम ,जिसे जताना पड़े,करता हूँ मैं तुमसे ,बताना पड़े, प्रेम तो बस चेहरे पे, आंखों में , मुसकुराहट में,व्यवहार में दिख ही जाता हैं.. प्रेम को दर्शाने की जरूरत नही पड़ती , हमको पता होता... Continue Reading →

तुमको ना भूल पाएंगे/Irfan Khan

अक्सर वो जल्दी छोड़ जाते हैं जिनकी जरूरत ज्यादा होती है। बहुत से लोगो ने अलग - अलग क्षेत्रों में बहुत ही कम उम्र में शिखर को पाया और दुनियां छोड़ गए। ये लिस्ट बहुत लंबी है इसमें राजनेता से लेकर अभिनेता, लेखक - लेखिका, दार्शनिक, वैज्ञानिक, समाज सुधारक और भी अनेकों क्षेत्र से सम्बंधित... Continue Reading →

Thought of the moment – 6

सबकुछ नही बोला जा सकता,ना ही लिखा जा सकता है… वही जो आप बोल और लिख नही पाते वही खोज है…प्रेम,ईश्वर,आत्मा,लक्ष्य जो कहना कह लो पर यही है जो बोला नही जा सकता..

A WordPress.com Website.

Up ↑